Palash Biswas On Unique Identity No1.mpg

Unique Identity No2

Please send the LINK to your Addresslist and send me every update, event, development,documents and FEEDBACK . just mail to palashbiswaskl@gmail.com

Website templates

Zia clarifies his timing of declaration of independence

What Mujib Said

Jyoti basu is DEAD

Jyoti Basu: The pragmatist

Dr.B.R. Ambedkar

Memories of Another Day

Memories of Another Day
While my Parents Pulin Babu and basanti Devi were living

"The Day India Burned"--A Documentary On Partition Part-1/9

Partition

Partition of India - refugees displaced by the partition

Friday, October 23, 2015

Three Murders and a Lynching!मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है! देश को जोड़ लें,दुनिया जोड़ लें,कोई अकेला भी नहीं है!

Three Murders and a Lynching

 

Ram Puniyani

 

Laws of nature cannot be applied to human society so directly. Still sometimes these have been used to explain-justify social catastrophes, "When a big tree falls. Earth shakes (in the aftermath of anti Sikh massacre 1984), 'every action has equal and opposite reaction' (during Gujarat carnage of 2002) are too well known. I have been very puzzled from last month or so since the scholars-writers, who have returned their honors and are being questioned as to why they did not do so when emergency happened or anti Sikh violence took place or when the mass migration of Kashmiri pundits took place or when the Mumbai train blasts killed hundreds of innocent lives.  I am tempted to think of the laws of physics of 'qualitative transformation' during heating or cooling of water, the temperature remains the same but water becomes either steam or ice.

 

When Dr. Dabholkar, Com Pansare and then Prof Kalburgi were killed over a period of months, the danger signals started being perceived but still it took the beef lynching of Mohammad Akhlaq to give a message that something has drastically changed in the society , and the spate of returning  of Sahiya Academy, National and state, awards followed in quick succession. Their protest was against the rising intolerance in the society. The incidents that followed and ran parallel to these 'award-returns' were equally horrific. The killing of a trucker on the assumption that he is carrying cows for slaughter; beating of a MLA in Kashmir Assembly by BJP legislatures and the scattered incidents of attacks on Muslims on the ground of beef consumption are too striking. We are currently facing a situation where anybody can incite the violence by just uttering the word beef, while seeing mutton or some such thing. We are living in an atmosphere where cow cannot be shooed away even if she is blocking the traffic.

 

The viciousness of atmosphere is not lost on the social perceptions. The insecurity of minorities has gone up by leaps and bounds. One knows that since the present NDA regime came to power all those 'spewing hate' are working overtime. For one Akbaruddudin Owaisi there is an army of Sakshi Mahraj, Sadhvis, Yogis and what have you. This army of mostly saffron robed or the one's with the association with Hindu Nationalist politics has high position within their political combine, what is known as Sangh Parivar. The prime Minister himself had exerted the Hindu youth to emulate Maharana Pratap to save the honor of Mother cow during the election speeches. During this last over one year, words like Haramjades  (illegitimate) have been used with gay abandon. On the mere suspicion; a Pune techie Mohsin Shaikh was done to death. Serial attacks on Churches were passed off as thefts, the love jihad bogey was kept alive and the likes of Yogi Adityanath, the top BJP leader from UP, stated that for every one Hindu girl marrying a Muslim, Hindus should bring 100 Muslim girls. Muslim youth have been barred from participating in festivals like Navaratri. Mukhtar Abbas Naqvi, the BJP's Muslim face advised those wanting to eat beef to go to Pakistan. The glorification of Mahatma's killer Godse has been stepped up and temples are being planned in his memory, while a BJP MP from Kerala stated that Godse was right but he chose a wrong target. Atmosphere of communal violence has gone up in a big way during the preceding year.

 

Even after the awards started being returned the BJP leadership looked down upon the writers/scholars and overlooked the phenomenon which has lead to returning of awards. To mock these writers Buddhi Shuddhi puja path (purification of intellect ritual) has been organized and BJP spokespersons are humiliating them in talk shows with all their ferocity. To cap it all the Haryana Chief Minister, an old RSS pracharak, said that Muslims can live here but only if they will give up beef eating. No doubt the BJP Chief Amit Shah has talked to some of these leaders behind the close doors, but that does seem to be a mock drill as the leaders concerned did say that they went to meet their chief for some other reasons and none of them gave any serious apology.

 

Disturbed by what is going on, the President Pranab Mukherjee on three occasions urged the nation to uphold, pluralism, the core civilizational value of the country and to uphold tolerance. The Vice President Hamid Ansari reminded the Government that it is the duty of the state to uphold the 'right to life' of citizens. The index of the changing social atmosphere is reflected by the statements of two outstanding citizens of the country. Julio Reibero, the top cop, expressed his pain and anguish by saying that "as a Christian suddenly I feel stranger in my own country." And the renowned actor Naseeruddin Shah had to point out that "Have never been aware of my identity as a Muslim until now."

 

These are not ordinary times. The values of pluralism and tolerance have been pushed to the margins. With this Government in power all the wings of communal politics, the RSS affiliates, have unleashed themselves in full blast. Communalism is not just the number of deaths due to violence, it is much more. The foundation of this violence begins with the manufacture of perceptions about the religious minorities. These perceptions based on history and some selective aspects of present society are given an anti human tilt and interpretation. This is used to create hatred for the minorities and that's where the communal elements can unleash violence either as a massive violence like Gujarat or Mumbai or Bhagalpur or Muzzafarnagar or the one in Dadri. This creates the divides in society which over a period of time is converted into polarization. And polarization is the foundation of electoral strength of party wanting a nation in the name of religion. As per Yale study, the communal violence is the vehicle which strengthens BJP at electoral level.

 

Communalism has been planted in India over a century and a half ago. The British policy of 'divide and rule' used communal historiography as a major weapon. This type of interpretation of history was picked up by communal organizations and given an anti Hindu or anti Muslim tilt and gradually this has been strengthened after every act of violence which has been the outcome of their politics. The present phase is the one where the cup of communalism is spilling out from its earlier levels or boundaries. The intensity of 'Hate' constructed around temple destructions, love jihad has been supplemented by the oft used tool of beef. In the present situation where the divisive elements, who are in center stage of politics also know that they are safe and secure as the present Government precisely wants what they are doing, their contrary posturing notwithstanding.

 

The present combination of the Government guided by the ideology of Hindu nationalism and the 'fringe elements' having same ideology, has a vast network and with a wide reach. This party has the advantage that mostly it does not have to dirty its hands in the local agenda of sectarian nationalism, and so there are many elements which can do the local work for dividing the society. The so called fringe elements now are occupying the center stage, and so the 'qualitative change' in the situation.  The flood of awards being returned is due to the situation created by deeper communalization of society. This is manifested in growing intolerance, attack on plurality and is leading to the insecurity of minorities, which has qualitatively transcended the earlier limits. The question is how to uphold the values of Indian Constitution in the current times?


https://youtu.be/yuTqyFkfOT0



मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!

देश को जोड़ लें,दुनिया जोड़ लें,कोई अकेला भी नहीं है!

दाभोलकार,पनसारे और कलबुर्गी के हत्यारे,बाबरी विध्वंस,भोपाल गैस त्रासदी.देश विदेश दंगों और आतंकी हमलों,सिखों के नरसंहार,गुजरात के दंगों,सलवा जुड़ुम और आफस्पा,टोटल प्राइवेटेजाइशेन,टोटल विनिवेश,टोटल एफडीआी के सौदागर तमाम हारने लगे हैं,हमारा यकीन भी कीजिये।



जिनने इस महादेश को कुरुक्षेत्र के मैदान में तब्दील कर दिया जो धर्म कर्म के नाम असत्य और अधर्म,अहिंसा और भ्रातृत्व के बदले हिंसा और नरसंहार,विश्वबंधुत्व के बदले  हिंदुत्व का ग्लोबल एजंडा और भारत तीर्थ की विविधता,वैचित्र्य के बदले गैरहिंदुओं के सफाये से देश को हिंदू बनाने के उपक्रम से कृषि,व्यवसाय और उद्योगधंधों की हत्या करके विदेशी पूंजी और विदेशी हितों के दल्ला बनकर महान  भारत देश की हत्या का राजसूय यज्ञ का आयोजन कर रहे थे। बाबुलंद ऐलानिया जिहाद जो  छेड़े हुए थे राष्ट्र के विवेक,सत्य, अहिंसा,न्याय,शांति समानता के बदले समरस मृत्यु उत्सव के नंगे कार्निवाल में हर मनुष्य को बंधुआ कंबंध बनाने के लिए हिंदू राष्ट्र के नाम पर। अंध राष्ट्रवाद के उन्मादी मुक्तबाजारी आवाहन के साथ।गौर से देख लो भइये,उनके रथ के पहिये धंसने लगे हैं।


अरविंद केजरीवाल,आप हमारी सुन रहे हैं तो दिल्ली में तीनों महापालिकाओं के सफाई कर्मचारियों को न्याय दिलाने के लिए तुरंत पहल करें!आपके लिए ऐतिहासिक मौका है।देश की राजधानी में अछूतों और बहुजनों की सुनवाई नहीं है एकसौएक दिन के धरने और अब हड़ताल के बावजूद क्योंकि लोकतंत्र भी मूक वधिर है।

पलाश विश्वास

ताजा खबर है कि दिल्ली की तीनों नगर निगम के सफाई कर्मचारी आज से हड़ताल पर चले गए हैं। सफाई कर्मचारी सेलरी में बढ़ोतरी, समय पर सेलरी मिलना, एरियर, भत्ते, कैशलेस मेडिकल सुविधा जैसी 17 मांगो को लेकर हड़ताल पर गए हैं।


तीनों नगर-निगम के सफाई कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से दिल्ली में सफाई व्यवस्था बिगड़ सकती है और सड़कों पर कड़े के ढेर नजर आ सकते हैं। वहीं दूसरी तरफ सफाई कर्मचारियों का कहना है कि वह अपनी मांगों को लेकर 15 जुलाई से सिविक सेंटर के सामने धरने पर बैठे हैं लेकिन किसी ने उनकी सुध नहीं ली है। गौरतलब है कि जून 2015 में सफाई कर्मचारी हड़ताल पर गए थे उस दौरान दिल्ली की सड़कों पर गंदगी के ढेर लग गए थे।


ताजा खबर फिर दलित उत्पीड़न की है जो एक सिलसिला है अविराम।अनंत सिलसिला।इस मनुसमृति  नस्ली रंगभेदी राजकाज का रोजनामचा  है यह फासीवाद का आचरण है यह।


इसलिए रवींद्र के दलित विमर्श कर को चर्चा हो नहीं सकती क्योंकि रवींद्र अछूत है और रवींद्र साहित्य रवींद्र संगीत की लय बुद्धम् शरणमं गच्छामि के तहत भारत को भारत तीर्थ बनाती है जो न जाने कितनी मनुष्य धाराओं क समामहित करके सबसे बड़ा तीर्थस्तल है इंसानियत के इतिहास भूगोल का,राजकाज उस भारत तीर्थ के कातिलों के जिम्मे कर दिया हमने अपने जनादेश के जरिये।जनादेश का वह ब्रह्मास्त्र अब जनता वापस लेने लगी है।

मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!


ताजा खबर है कि  हरियाणा के फरीदाबाद जिले के एक गांव में अगड़ी जाति के दबंगों द्वारा एक दलित परिवार को जिंदा जलाने की घटना पर राजनीति के बीच आज गृह मंत्री का अहम बयान सामने आया है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने आज मीडिया से बात करते हुए कहा कि इस मामले को लेकर राजनीति की जा रही है जबकि इसपर वीके सिंह और केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू ने सफाई दे दी है। इधर, वीके सिंह के बयान के खिलाफ आम आदमी पार्टी ने आज पुलिस में शिकायत दर्ज करायी है। राजनाथ सिंह ने कहा कि मैं सत्ताधारी दल के नेता होने के कारण यह कहना चाहता हूं कि गंभीर मामलों में असंवेदशील बयान देने से हमें बचना चाहिए।


अरविंद केजरीवाल,आप हमारी सुन रहे हैं तो दिल्ली में तीनों महापालिकाओं के सफाई कर्मचारियों को न्याय दिलाने के लिए तुरंत पहल करें!आपके लिए ऐतिहासिक मौका है।देश की राजधानी में अछूतों और बहुजनों की सुनवाई नहीं है एकसौएक दिन के धरने और अब हड़ताल के बावजूद क्योंकि लोकतंत्र भी मूक वधिर है।


मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!


ऐसा पहलीबार नहीं कि यह देश या यह दुनिया फासीवाद के शिकंजे में है।हिटलर का किस्सा मशहूर है तो गौरतलब है कि इंदिराम्मा की बेमिसाल रहनुमाई और समाजवादी राजकाज का अंत भी फासीवादी विकल्प चुनने की ऐतिहासिक भूल की वजह से हुई।


इसी फासीवाद की वजह से देश लहूलुहान हुआ और आपरेशन ब्लू स्टार को भी अंजाम दिया फासीवाद ने जिसे तबभी मजहबी सियासत के झंडेवरदारों ने अपनी जमीन हिंदुत्व के पुनरूत्थान के लिए हर संभव मदद की और वह विभाजन से पहले बने हिंदुत्व के महागठबंधन की वापसी का नजारा है,जो आज दसों दिशाओं में कमल कमल लहालहा रहा है।


तब सिखों का संहार हुआ तो अब मुसलमान,दलित, पिछड़े और आदिवासी,हर गैरहिन्दू,हर गैरनस्ली अनार्य, द्रविड़, मंगोलियाड, आस्ट्रेलियाड निशाने पर हैं और उससे ज्यादा निशाने पर हैं इस कायनात की रहमतें,बरकतें,नियामते और हर दिल में गहराई तक पैठी मुहब्बत और अमनचैन की फिजां।


फासिज्म का यह जलजलाई जलवा कोई नया भी नहीं है और न यह बजरंगी तांडव कुछ नया नया है।


मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!



इस देश ने आपातकाल को महज दो साल में तोड़कर फिर लोकशाही की बहाली की और दुनिया की गोलबंदी ने हिटलर मुसोलिनी के अश्वमेधी फौजों को शिक्सत दी तो बिरंची बाबा का टायटैनिक अवतार की क्या हैसियत जो आजाद लबों के बोल,आजाद नागरिकों की चीखों की गूंज अनुगूंज को थाम लें!


अब तक जिनने भी फासीवादी तौरतरीके लोकतंत्र और संविधान के कत्ल के बाद खून से सने हाथों की सफाई बतौर तमाशे का रंगारंग मनोरंजक सेक्सी तिलिस्म बना दिया,वे सभी लोकप्रिय भी रहे हैं और जनादेश के धनी भी रहे हैं।


फिरभी कोई जनादेश अंतिम नहीं होता।हर हाल में फासीवाद की हार तय है।फिर वही किस्सा दोहराया जा रहा है।


मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!



वे हारने लगे हैं दोस्त,जिनने इस महादेश को कुरुक्षेत्र के मैदान में तब्दील कर दिया जो धर्म कर्म के नाम असत्य और अधर्म,अहिंसा और भ्रातृत्व के बदले हिंसा और नरसंहार,विश्वबंधुत्व के बदले  हिंदुत्व का ग्लोबल एजंडा और भारत तीर्थ की विविधता,वैचित्र्य के बदले गैरहिंदुओं के सफाये से देश को हिंदू बनाने के उपक्रम से कृषि,व्यवसाय और उद्योगधंधों की हत्या करके विदेशी पूंजी और विदेशी हितों के दल्ला बनकर महान  भारत देश की हत्या का राजसूय यज्ञ का आयोजन कर रहे थे।


दाभोलकार,पनसारे और कलबुर्गी के हत्यारे,बाबरी विध्वंस,भोपाल गैस त्रासदी.देश विदेश दंगों और आतंकी हमलों,सिखों के नरसंहार,गुजरात के दंगों,सलवा जुड़ुम और आफस्पा,टोटल प्राइवेटेजाइशेन,टोटल विनिवेश,टोटल एफडीआी के सौदागर तमाम हारने लगे हैं,हमारा यकीन भी कीजिये।


और बाबुलंद ऐलानिया जिहाद छेड़े हुए थे राष्ट्र के विवेक,सत्य, अहिंसा,न्याय,शांति समानता के बदले समरस मृत्यु उत्सव के नंगे कार्निवाल में हर मनुष्य को बंधुआ कंबंध बनाने के लिए हिंदू राष्ट्र के नाम पर अंध राष्ट्रवाद के उन्मादी मुक्तबाजारी आवाहन के साथ,गौर से देख लो भइये,उनके रथ के पहिये धंसने लगे हैं।



खबर है कि साहित्य अकादमी ने हारकर 150 देशों के लेखकों,कवियों,कलाकारों,संस्कृतिकर्मियों के गोलबंद हो जाने के बाद अकादमी अध्यक्ष विश्वनाथ तिवारी की रहनुमाई में पुरस्कार लौटाने वालों के खिलाफ अभूतपूर्व घृणा अभियान चलाने के बाद और दिल्ली में ही लेखकों कलाकारों रचनाकर्मियों के खिलाफ बजरंगी तांडव के मध्य झख मारकर सिर्फ कलबर्गी की ह्ताय की निंदा की है और लेखकों से पुरस्कार फिर ग्रहण कर लेने की अपील की है।

मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!

देश को जोड़ लें,दुनिया जोड़ लें,कोई अकेला भी नहीं है!

इंडियन एक्सप्रेस की ताजा रपट हैः

Sahitya Akademi condemns MM Kalburgi's murder, appeals to writers to take back awards

Sahitya Akademi condemns MM Kalburgi's murder, appeals to writers to take back awards

At least 35 writers including Nayantara Sahgal, Ashok Vajpeyi, Uday Prakash, Keki N Daruwallah, K Veerabhadrappa had returned their Akademi awards

  • Urdu poet Munawar Rana returns Akademi award

  • Akademi crisis has exposed leadership failure

  • लेखकों के प्रदर्शन के जवाब में जवाबी प्रदर्शन

  • नई दिल्ली : साहित्य अकादमी के खिलाफ लेखकों की शांतिपूर्ण मौन रैली के विरोध में लोगों के एक अन्य वर्ग ने जवाबी प्रदर्शन का आयोजन किया। उनका आरोप था कि लेखकों की पुरस्कार लौटाने की कार्रवाई 'उनके निहित स्वार्थों से प्रेरित' है और कहा कि साहित्य संगठन को 'दबाव' में नहीं आना चाहिए।

  • ज्वाइंट एक्शन ग्रुप ऑफ नेशनलिस्ट माइंडेड आर्टिस्ट्स एंड थिंकर्स, जनमत द्वारा प्रदर्शन का आयोजन किया गया। इसने अकादमी को एक ज्ञापन भी सौंपा और लेखकों की मंशा पर सवाल उठाए। इनका आरोप था कि इनमें से बहुत सारे लोगों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जनादेश नहीं देने के लिए मतदाताओं से अपील की थी।

  • भाजपा की छात्र इकाई एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने भी प्रदर्शन में हिस्सा लिया। इसके साथ ही विभिन्न भाषाओं के लेखकों ने सफदर हाशमी मार्ग के श्री राम सेन्टर से साहित्य अकादमी भवन तक रैली निकाली। इनकी मांग थी कि लेखकों की अभिव्यक्ति की आजादी और विरोध प्रकट करने के अधिकार की रक्षा के लिए अकादमी द्वारा प्रस्ताव पारित किया जाए।

  • जनमत ने कहा, 'हम साहित्य अकादमी से अपील करते हैं कि वह अपना स्वायत्त स्वरूप बनाए रखे और उन कुछ लेखकों के दबाव में नहीं आए जो इससे पहले देश के लोगों से प्रधानमंत्री नरेन्द मोदी को जनादेश नहीं देने की अपील कर चुके हैं।'

  • ज्ञापन में कहा गया है, 'ये लोग किस चीज से असहमति जता रहे हैं? सचाई यह है कि उनके बीच में एक कवि है, जो साहित्य अकादमी के पद के लिए प्रयासरत थे और बुरी तरह विफल रहे। उनका सुझाव था कि अध्यक्ष पद के चुनाव कराने की बजाय इस पद पर नियुक्ति सीधे सरकार द्वारा होनी चाहिए।'

  • नचिमुतू ने कहा, 'हत्याओं की निन्दा करने के लिए सभी लेखक अपने सर्वसम्मत फैसले में साथ खड़े हैं।' 'बढ़ती असहिष्णुता' की निन्दा करने की लेखकों की मांग पर उन्होंने कहा, 'हां हमने उसका भी समाधान किया है।' उन्होंने कहा कि जल्द ही विस्तृत बयान जारी किया जाएगा।

  • अकादमी की बोर्ड बैठक 17 दिसंबर को होगी जहां पुरस्कार लौटाने से उत्पन्न स्थिति पर चर्चा होगी।

  • नयनतारा सहगल, अशोक वाजपेयी, उदय प्रकाश, केकी एन दारूवाला, के. वीरभद्रप्पा सहित कम से कम 35 लेखक अपने अकादमी पुरस्कार लौटा चुके हैं और पांच लेखकों ने साहित्यिक इकाई के अपने आधिकारिक पदों से इस्तीफा दे दिया था। इसके चलते अकादमी ने आज एक आपातकालीन बैठक की।

  • इससे पूर्व आज दिन में, अकादमी की बैठक से पहले लेखकों और उनके समर्थकों ने काली पट्टी बांधकर यहां एकजुटता मार्च आयोजित किया ।

  • एक दूसरे समूह ने प्रदर्शन के विरोध में यह कहते हुए जवाबी प्रदर्शन किया कि लेखकों का पुरस्कार लौटाना 'उनके निहित स्वार्थों से प्रेरित है' तथा साहित्य अकादमी को 'दबाव' के सामने झुकना नहीं चाहिए।

मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!

Kejriwal,do you hear me?

Please resolve the problems of Safai employees in Delhi as Indian Democracy has no ears for Untouchables, Bahujans!



নীলকন্ঠ পাখির খোঁজ নেই,তবু বিসর্জন!সুন্দরবনের সধবা বিধবা মেয়েদের প্রতি মুহুর্তে চলছে বিসর্জন নীলকন্ঠ পাখিদের ছাড়া!সেই সুন্দরবনকে ধ্বংস করে আমরা গড়ছি সভ্যতার উপনিবেশ!এই শাব হিউম্যান পৃথীবীতে গেদখল হারিয়ে যাওয়া মানুষদের কোনো ছিকানা নেই!ঝড় চলছে,ভুমিক্মপ হচ্ছে,সুনামী অব্যাহত!আমারা খবর রাখিনা!আত্মঘাতী বাঙালি ধ্বংস করছে সেই সুন্দরবন,সেই মহাঅরণ্য,যে জলপ্রলয় থেকে রক্ষা করছে আমাদের হাজারো বছর ধরে!মনুষত্য ও সভ্যতার জন্য এই ধ্ংস লীলা বন্ধ হোক!

Sundarbans - Wikipedia, the free encyclopedia

https://en.wikipedia.org/wiki/Sundarbans

The Sundarbans (Bengali: সুন্দরবন, Shundorbôn) is a natural region in the Bengal region comprising Eastern India and Bangladesh. It is the largest single block ..

https://youtu.be/Qo5lylo_bDY

Kejriwal reduced to MAHISHASUR calls for overhaul as Rape Tsunami continues



Rabindra Nath Tagore wrote about the lighthouse of this human civilization and complained that those who live in eternal darkness of untouchability,racist apartheid,they bear every burn,they bleed to ensure the light for us and we have no sympathy for those majority masses,the bahujan samaj.We never discussed this point.

কোথায় সেই ভারততীর্থ রবি ঠাকুরের?ধর্মোন্মাদী রাষ্ট্র ও সময়ে মহিষাসুরমর্দিনী  দশ প্রহরণ ধারিণী দুর্গে বধিছে অসুর!নীল কন্ঠ পাখী থাক না থাক,বিসর্জনের ডাক ঢাকের বোল,বোধন.দেবী দর্শন,প্যান্ডেল,থিম ঝাঁপিয়ে সেই স্বেচ্ছা মৃত্যু,আত্মধ্বংস,অমোঘ বিসর্জন।কালরাত্রির শেষ নেই।দুর্যোগের শষ নেই।


ঠাকুর থাকবে কতক্ষণ?


https://youtu.be/5RGJwv2F238

We,the activists of creativity from 150 nations stand Unitedto sustain Humanity and nature!

বাংলার সুশীল সমাজ 1857 সালে মহাবিদ্রোহে সুশীল বালক ছিল!

তাঁরা চুয়াড় বিদ্রোহ,সন্যাসী বিদ্রোহ,নীল বিদ্রোহ,সাঁওতাল মুন্ডা ভীল বিদ্রোহের সমর্থনে দাঁড়াননি!তাঁরা চিরকালই শাসক শ্রেণীর অন্তর্ভুক্ত!

আজও তাঁরা নিরুত্তাপ!প্রতিবাদ করবেন কিন্তু সম্মান পুরস্কার ফেরত নৈব নৈব চ!শুধু এই শারদে মন্দাক্রান্তা বাংলার মুখ!ভালোবাসার মুখ!

সারা বিশ্বের শিল্প সাহিত্য সংস্কৃতির দায়বদ্ধতার মুখ!ভালোবাসা!


This ultimate passion to sustain humanity is the basic resource, original inspiration of poetry and poetic justice is all about the eternal call of equality, truth, pluralism, diversity and humanity!

https://youtu.be/FiEACpJo54w

মন্ত্রহীণ,ব্রাত্য,জাতিহারা রবীন্দ্র,রবীন্দ্র সঙ্গীত!









https://youtu.be/I-ST7ysPnxc


अछूत रवींद्रनाथ का दलित विमर्श


Out caste Tagore Poetry is all about Universal Brotherhood which makes India the greatest ever Ocean which merges so many streams of Humanity!

आप हमारा गला भले काट दो,सर कलम कर दो लब आजाद रहेंगे! क्योंकि हिटलर के राजकाज में भी जर्मनी के संस्कृतिकर्मी भी प्रतिरोध के मोर्चे पर लामबंद सर कटवाने को तैयार थे।जो भी सर कटवाने को हमारे कारवां में शामिल होने को तैयार हैं,अपने मोर्चे पर उनका स्वागत है।स्वागत है।


Samrat Ashok tried his best to create a world of universal fraternity,the Mulk of Insaniayat and so that he sent his son and daughter to communicate the humanity worldwide the Message of truth,peace,nonviolence an Panchseel which is all about the Mission of Lord Buddha.


Coincidentally,every major poem written by Tagore ends into the ultimate cry;BUDDHAM SHRANAM GACHHAMI!


সেই কালরাত্রি ব্যাপিছে আকাশ বাতাস,এই রকেট ক্যাপসুল নিবেদিত সত্যি,বড় দুর্গার শারদোত্সব,সেই অমোঘ দর্যোগের অবসর নেই,যে কালরাত্রিতে কালরাত্রিতে সর্বজয়ার মাতৃত্বে বজ্রাঘাত করে দুর্গা ভাই অপুকে একলা ছেড়ে চলে গেল চিরকালের মত।সব মায়েদের বোনেদের মত দুর্গা বাপের বাড়ি ফেরে নাই।ফিরিবে না কোনো কাল।অপূু চিরকালই একা।সেই দিদি নেই,সেই কাশফুল নেই,সেই বোড়াল নেই,সেই কু ঝিকঝিক ট্রেন নেই,আকাশে সেই ইন্দ্রধনু নেই,নেই গ্রাম,চাষ আবাদ,শিল্প বাণিজ্য।আমরা নাগরিক,গ্রাম হারিয়ে গেছে।নীলকন্ঠ পাখি নিঃখোজ।ব্যবাসা বামিজ্য সবই পুজো,সত্যি, বড় দুর্গার পুজো।সত্যজিতের দেবীর মত মায়েরা বোনেরা দেবী হয়েও বিসর্জনে নিবেদিত যেমন রামরাজত্যে মর্যাদা পুরুষোত্তম শ্রী রামচন্দ্র সরযু নদীতে স্বেচ্ছা বিসর্জনে নিবেদিত ও বনবাসঅন্তে সীতার পাতালগমন।

পথের পাঁচালি বা আরণ্যক আর লেখা হবে না।ফিরবে না রবীন্দ্রনাথ,নজরুল,সুকান্ত,নেতাজি,সত্যজিত,বিভুতিভূষণ,শরত ও দুর্গা।চারিদিকে শ্মশান।সীমেন্টের এই জঙ্গলে ,শিল্পায়ণে ভূমি অধিগ্রহণে,নলেজ ইকোনোমী,চোচাল প্রাইভেটাইজেশনে,হাউসিং হেল্থ হাবের উন্নয়ণে মহানগরের গ্রাসে গ্রাম বাংলা।


মনুষ্যতা,পরিবার,সমাজ,সভ্যতা,ধর্ম কর্ম,ব্যবসা বাণিজ্য, শিল্প, পবিত্রতা,নৈতিকতা,মা ছিলে,বাপ মেয়ে,ভাই বোনের কর্ত সম্পর্ক সবকিছুর উপরে রকেটক্যাপসুল নিবেদিত শারদোত্সব।

বাংলায় এখন মহিষাসুর বধ চলছে!তবু ভালো,এখনো গৌরিকায়ণের কুরুক্ষেত্র থেকে এখনো বাংলা বহুদুরে!আল্লাহো আকবর ও পাল্টা হর হর মহাদেবের প্রলয়ন্কর আবাহন দেবীর বোধন সত্যি বড় দুর্গার মত বিপর্যয় ডেকে আনতে পারে যে কোনো সময়,যেহেতু দাবানলের মত মনুস্মৃতি শাসনের জিহ্বা সারা দেশ গ্রাস করেছে! সেই দাবানল প্রতিহত করার কোনো দায়বদ্ধতা নন্দীগ্রাম সিঙ্গুর খ্যাত পৃথীবী বিখ্যাত বাংলার সুশীল সমাজের নেই!সারা পৃথীবীর এক শো পন্চাশটি দেশের লেখক কবি শিল্পীদের মধ্যে বাংলার শুধু একজন,সে আমাদের মন্দাক্রান্তা!

Gopal Rathi's photo.

কমরেড,এই আমাদের দেশ,সোনা দিয়ে বাঁধিয়ে রাখুন পুরস্কার সম্মান, মিছিলে হাঁটলেই হিটলার পরাজিত হবে!


--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!