Palash Biswas On Unique Identity No1.mpg

Unique Identity No2

Please send the LINK to your Addresslist and send me every update, event, development,documents and FEEDBACK . just mail to palashbiswaskl@gmail.com

Website templates

Zia clarifies his timing of declaration of independence

What Mujib Said

Jyoti basu is DEAD

Jyoti Basu: The pragmatist

Dr.B.R. Ambedkar

Memories of Another Day

Memories of Another Day
While my Parents Pulin Babu and basanti Devi were living

"The Day India Burned"--A Documentary On Partition Part-1/9

Partition

Partition of India - refugees displaced by the partition

Tuesday, December 22, 2015

नयका इतिहास! बाजीराव और पेशवाराज का अभूतपूर्व महिमामंडन! বর্গী এলো দ্যাশে! बाजीराव मस्तानी Pinga | Official Video Song!

हिंदुत्व एजंडा के मुताबिक पेशवा राज का महिमामंडन

पलाश विश्वास

असहिष्णुता पर शाहरुख कान के बयान के बाद उनके व्यंग्यात्मक माफीनामे से केसरिया भक्त संप्रदाय का दिल पसीजा नहीं है।इसके बावजूद अब भी देलवाले बाजीराव मस्तानी से आगे हैं।


संजय लीला भंसाली ने रंगों का कारोबार खूब किया है अपनी दूसरी फिल्मों के जरिये।वे शायद यह भी जानते होंगे कि महाराष्ट्र की बहुजन जनता के मुताबिक शिवजी वंश के अवसान के बाद पेशवाराज का मतलब क्या है।पेशवाराज की वापसी के बाल गंगाधर के स्वराज के खिलाफ थे महात्मा ज्योति बा फूले और बहुजन समाज देशभर में पेशवाराज को विशुद्ध मनुस्मृति शासन जानते समझते रहे हैं।


केसरिया सहिष्णुता के प्रवक्ता संजय लीली भंसाली अनुपम खेर के साथ पुरस्कार वापसी का विरोध करते रहे हैं।इसलिए कोई अचरज नहीं कि विरोध प्रदर्शन से जब ममला बना नहीं और काजोल शाहरुख की प्रेम कथा भारी है बाजीराव के नयका इतिहास पर।


माफ कीजियेगा।हमारी पसंदीदा दोनों नायिकाओं प्रियंका चोपड़ा और दीपिका,खासतौर पर दीपिका ने बहुत शानदार जानदार काम किया है।दीपिका तो एक दम खिली खिली है।रणवीर सिंह ने भी अभिनय में बाजीराव को जिंदा कर दिया है।गाने भी धांसू हैं।


इसे इतिहास बताया जा रहा है।

कहा जा रहा है कि दिलवाले की प्रेमकथा दो कौड़ी की है और मस्तानी की प्रेमकथा इतिहास है।

कोई शक भी नहीं है कि एकदम मुगलेआजम की तरह भव्य फिल्म बनायी है संजय लीला भंसाली ने लेकिन अंततः यह बाजीराव और पेशवाराज का अभूतपूर्व महिमामंडन है।


बौद्धमय बंगाल में पालवंश के शासन काल में तमिल राजा ने जिनने आखिरकार कंपूचिया फिलीपींस मलेशिया इंडोनेशिया सुमात्रा बाली वगैरह जीत लिया तो रास्ते पर बंगाल पर भी उनने हमले किये।तब महाराष्ट्र के जाधव राजा ने पाल राजाओं की मदद की और तमिल हमलावर बंगाल दखल नहीं कर पाये।हालाकि बाद में कर्नाटकी सेन राजाओं ने बंगाल दखल कर लिया और असुर अस्पृश्य बंगाल का हिंदुत्वकरण हो गया।


बौद्धमबंगाल और महाराष्ट्र के जाधव राजाओं की बेमिसाल मैत्री के इतिहास की चर्चा न महाराष्ट्र में होती है और न बंगाल में।


महाराष्ट्र में हिंदुत्व की राजनीति ने शिवाजी की विरासत से बहुजनों को पहले ही बेदखल कर दिया है और बाजीराव की प्रेमकथा के मार्फत पेशवाराज के इस लोकप्रिय महिमामंडन का आशय क्या है,यह समझा पाना हमारे बूते में नहीं है।


बहरहाल विद्वतजन शाहरुख और रोहित शेट्टी के साथ काजोल को भी खारिज करके जैसे मस्तानी के प्रेम में पूरे देश को केसरिया बना रहे हैं,वह हैरत अंगेज है।


बंगाल में लोग अब भी मराठा बर्गी हमले को भूले नहीं है।आज भी बच्चों को डराने के लिए मांएं गाती हैंः


ছেলে ঘুমালো পাড়া জুড়ালো বর্গী এল দেশে

বুলবুলিতে ধান খেয়েছে খাজনা দেব কিসে

ধান ফুরোলো পান ফুরোলো খাজনার উপায় কি?

আর কটা দিন সবুর কর রসুন বুনেছি।

लहसुन की खेती से बंगाल में इस्लामी शासन का दृश्यबंध।


Bargis were group of Maratha people indulged in large scale plundering of the countryside of western part of Bengal for about ten years (1741–1751). Bargi invasions took place almost as an annual event.

কে আছে এমন, যে এই ছড়া শুনে শৈশবে ঘুমোতে যায় নি?

বর্গি শব্দটি একটি মারাঠি শব্দের অপভ্রংশ যার অর্থ মারাঠা সাম্রাজ্যের অশ্ব ও অস্ত্রধারী অশ্বারোহী সৈনিক। সিলাদার-দের মতো এরা নিজের অশ্বে আরোহণ করে যুদ্ধ করত না। বাংলার জনমানসে বর্গি আক্রমণের ভীতি প্রতিফলিত হয় লোকসাহিত্যেও। আজও জনপ্রিয় ছেলেভুলানো ছড়ায় গাওয়া হয়,. খোকা ঘুমালো, পাড়া জুড়ালো,বর্গি এলো দেশে..

Bargi is corruption of a Marathi word Bargir which meant Horsemen who were provided with horses and arms by the Maratha Empire who were exclusively Hatkar in contrast to the Shiledar, who had their own horses and arms.[3] The temper of Hatkars is said to be obstinate and quarrelsome




Arvind Kumar 


कल शाम बाजीराव मस्तानी देखी, साहिबाबाद वाले गैलेक्सी मल्टीप्लैक्स मेँ. इस का हर शो हाउस फ़ुल जा रहा है. 
विराट वैभव दिखाने मेँ कुशल भंसाली ने इसे मुग़ले आज़म और जोधा अकबर से भी बड़े स्केल पर माउंट किया है. निस्संदेह फ़िल्म बहुत अच्छी है. 
रणवीर सिंह मेँ जितना दम है, फुरती चुस्ती और जीवंतता है, वह आज किसी और मेँ नज़र नहीँ आती. 
कई दृश्योँ मेँ दीपिका मुग़ले आज़म की मधुबाला लगती हैँ. और हाँ मुग़ले आज़म जैसा ही शीश महल भी तो है, और ज़ंज़ीरेँ भी हैँ. 
डौन मेँ अमिताभ का संवाद था तमंचे मेँ गोली नहीं है, यह हम जानते हैँ पुलिस नहीँ, वह भी यहाँ है - हमारे पास सैनिक कम है हम जानते हैँ निज़ाम नहीँ.
और हाँ, भंसाली की ही देवदास जैसा दोनोँ नायिकाओँ का नाच भी है.
एक एक दृश्य, एक एक कलाकार, पर न जा कर इतना कहना काफ़ी है कि बाहुबली के बाद इतने बड़े स्केल वाली यह पहली फ़िल्म है, कम से कम दो बार देखने लायक़ है.

Bajirao Mastani Trailer 2 - TOP 5 Moments

https://www.youtube.com/watch?v=Nx1pJ7h120Y


Forgotten Indian history: The brutal Maratha invasions of Bengal

For medieval India history, incidents that don't fit into an overarching Hindu versus Muslims narrative tend to be removed from popular discourse. The…


Bajirao Mastani | Official Teaser | Ranveer Singh, Deepika Padukone, Priyanka Chopra








Albela Sajan Official Video Song | Bajirao Mastani | Ranveer Singh, Priyanka Chopra



Aayat Official Video Song | Bajirao Mastani | Ranveer Singh, Deepika Padukone


Bajirao Mastani Official Trailer with Subtitles | Ranveer Singh, Deepika Padukone, Priyanka Chopra
https://www.youtube.com/watch?v=eHOc-4D7MjY


Deewani Mastani | Official Video Song | Bajirao Mastani | Deepika Padukone, Ranveer Singh, Priyanka
https://www.youtube.com/watch?v=zRtPUIumXcY


Malhari Official Video Song | Bajirao Mastani | Ranveer Singh
https://www.youtube.com/watch?v=YUH9jD__qHY


Pinga | Official Video Song | Bajirao Mastani | Deepika Padukone, Priyanka Chopra
https://www.youtube.com/watch?v=xz-Vac75to4




kolkatajournalTHE MARATHA MENACE — 1741 – 1751


kolkatajournal

THE MARATHA MENACE — 1741 – 1751

Calcutta— 09 May 2013

The Maratha Menace — 1741 – 1751

The Prologue:

Many historians have termed it as a calamity and in the annals of history this event is known as the "Maratha Menace (Bargi invasion of Bengal)".

The word "Bargi" is derived from the Persian word "Bargir" meaning "Ancient Maratha Army". The "Bargis" or the Maratha Army invaded Bengal a number of times from 1741 to 1751, first under Bhaskar Ram Kolhatkar (Bhaskar Pandit), the prime minister to Raghuji Bhosle of Nagpur and then under the master himself, following the death of the prime minister in 1744 with the sole objective of acquiring "Chouth" or tax. They had no intention of any annexation of the plundered land.

Bhaskar Pandit effected large scale plunder and death in the vast region expanding whole of Bengal, Bihar and Orissa from 1741 to 1744. He gave a trying time to the old Nawab Alivardi Khan, making him run around in his pursuit throughout hi dominion. At last on the 31st of March 1744, alivardi succeeded in putting an end to Bhaskar Pandit at a place called "Mankara", 29 miles north of Plassey and about 6.4 kilometers from Baharampur cantonment.


Raghuji Bhosle was furious at the news of the death of his Prime Minister along with 21 of his commanders and decided to invade Bengal. He took 15 months to prepare for this assault and continued to do so for the next 6 years. There were occasional defeats at the hands of the nawab, but none was any deterrent to his plans and he continued to invade till the 76-year old Nawab, tired and bankrupt, decided to make peace with the invader 1751. A treaty was concluded between them. The conditions laid down in the treaty read thus:

  1. Mir Habib will take over as the ruler of Orissa.

  2. The Nawab of Bengal will pay an annual "chowtha" (tax) of Rs 12, 00, 000 to Raghuji Bhosle.

  3. The district of Medinipur be separated from Orissa and annexed to Bengal and that the river Subarnarekha be considered to be the northern boundary of the Maratha Kingdom.

Kolkata and the Bargis

The Marathas never attacked Kolkata, though they came as far up to the site of the current botanical garden in Howrah. Kolkata hence was considered to be a safe refuge for the average inhabitant of Bengal. People flocked to the new town, till in its infancy, cutting across all social, economic and religious lines. They looked up to the British as the new savior, as Nawab Alivardi Khan was not able to completely stem the Maratha Menace, though he had successfully got rid of Bhaskar Pandit and had occasional successes against Raghuji Bhosle. The British, on the other hand were also worried about the Maratha Invasions. Both their maritime and inland trades were adversely affected. Apart from planning to consolidate their trade, efforts were on to protect Kolkata from the Bargis. The company's authorities planned to plant seven batteries at different strategic points of the settlement. According to a plan dated 1742, it was seen that the settlement proper, which consisted mainly of the Christian Population, was surrounded by a ring-fence of palisades. But none of the measures could be considered to be effective in the event of a Maratha invasion, so far as the Indian settlement was considered. Indian merchants were worried and they, along with other citizens drew up a plan to construct an entrenchment measuring 7 miles (11.2 km) in length and 42 yards in width, starting from Perrin's Garden in Chitpur and terminating at the Ganga. Construction started in 1742. The initial proposal was to dig southwards along the lines of the circular road turning southwestward at Janbazar. It passed via the Chowringhee-Middleton road crossing and Hastings area before meeting the Hugli River in Kidderpore. It was a very expensive task and commenced with due permission from the Nawab. A loan of Rs 25000 was granted by the Company, to which Baishnabcharan Seth, Rashbehari Seth, Ramkrishna Seth and Umichand agreed to become the guarantor. But since thereafter there was no signs of any Maratha Invasion, the fear subsided and the work stopped on reaching the now Entally Market. The work restarted but could move no further than the Baig Bagan area. This entrenchment came to be known as the "Marhatta Ditch". Later, because of no its no material usage, the ditch got converted into a dumping ground for the wastes of the new town and hence became cause of health hazards. So it was decided to convert it into a road by filling it up with brick chips and gravel. This road came to be known as the "Naya Sarak" (New Road) or "Baahar Sarak" (Outer Road) marking the eastern boundary of the town of Kolkata. This road was later known as Lower Circular road (A.J.C. Bose Road) and Upper Circular Road (A.P.C. Roy Road). Other initiates taken for the prevention of a maratha invasion were as follows:

  1. Renovation work for the old fort was undertaken in 1742. It, being an expensive affair, was suspended in May, 1742.

  2. Militia Troops were formed with the local Europeans

  3. 200 "Buxariah" gunmen were employed, who were eventually disbanded on 17th June, 1742.

  4. The English town received a protective wooden fencing.

The Epilogue:

The question that remained to be answered was why did the Marathas never attacked Kolkata when they had the town within their shooting range. Was it because of the aforesaid measures or that they considered the British to be far superior, militarily, to them and the Nawab. But none of these were suitable options and rightly so because of the rich history of military valor of the Marathis. Therefore the reason for such an exception was probably the payment of "Chouth" of Rs 4317 by the Company. It was officially recorded to be a loan, which the Marathas never cared to repay.

http://kolkatajournal.com/the-maratha-menace-1741-1751/


पेशवा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
इस लेख में सन्दर्भ या सूत्र नहीं दिए गए हैं।
कृपया विश्वसनीय सूत्रों के सन्दर्भ जोड़कर इस लेख में सुधार करें। बिना सूत्रों की सामग्री को हटाया जा सकता है। (जून 2015)
दरबारियों के साथ पेशवा

मराठा साम्राज्य के प्रधानमंत्रियों को पेशवा (मराठीपेशवा) कहते थे। ये राजा के सलाहकार परिषदअष्टप्रधान के सबसे प्रमुख होते थे। राजा के बाद इन्हीं का स्थान आता था। शिवाजी के अष्टप्रधानमंत्रिमंडल में प्रधान मंत्री अथवा वजीर का पर्यायवाची पद था। 'पेशवा' फारसी शब्द है जिसका अर्थ 'अग्रणी' है।

पेशवा का पद वंशानुगत नहीं था। आरंभ में, संभवत: पेशवा मर्यादा में अन्य सदस्यों के बराबर ही माना जाता था। छत्रपति राजाराम के समय में पंत-प्रतिनिधि का नवनिर्मित पद, राजा का प्रतिनिधि होने के नाते पेशवा से ज्येष्ठ ठहराया गया था। पेशवाई सत्ता के वास्तविक संस्थापन का, तथा पेशवा पद को वंशपरंपरागत रूप देने का श्रेय ऐतिहासिक क्रम से सातवें पेशवा, बालाजी विश्वनाथ को है। किंतु, यह परिवर्तन छत्रपति शाहू के सहयोग और सहमति द्वारा ही संपन्न हुआ, उसकी असमर्थता के कारण नहीं। यद्यपि बालाजी विश्वनाथ के उत्तराधिकारी बाजीराव ने मराठा साम्राज्य के सीमाविस्तार के साथ साथ अपनी सत्ता को भी सर्वोपरि बना दिया, तथापि वैधानिक रूप से पेशवा की स्थिति में क्रांतिकारी परिवर्तन शाहू की मृत्यु के बाद, बाजीराव के पुत्र बालाजी के समय में हुआ। अल्पवयस्क छत्रपति रामराजा की अयोग्यता के कारण समस्त राजकीय शक्ति संगोला के समझौते (२५ सितंबर १७५०) के अनुसार, पेशवा को हस्तांतरित हो गई, तथा शासकीय केंद्र सातारा की अपेक्षा पुणे निर्धारित किया गया। किंतु पेशवा माधवराव के मृत्युपरांत जैसा सातारा राजवंश के साथ हुआ, वैसा ही पेशवा वंश के साथ हुआ। माधवराज के उत्तराधिकारियों की नितांत अयोग्यता के कारण राजकीय सत्ता उनके अभिभावक नाना फड़नवीस के हाथों में केंद्रित हो गई। किंतु आँग्ल शक्ति के उत्कर्ष के कारण इस स्थिति में भी शीघ्र ही महान परिवर्तन हुआ। अंतिम पेशवा बाजीराव द्वितीय को वसई की संधि के अनुसार (३१ दिसम्बर १८०२) अंग्रेजों का प्रभुत्व स्वीकार करना पड़ा; १३ जून १८१७, की संधि के अनुसार मराठा संघ पर उसे अपना अधिकार छोड़ना पड़ा; तथा अंत में तृतीय आंग्ल मराठा युद्ध की समाप्ति पर, मराठा साम्राज्य के विसर्जन के बाद, पदच्युत होकर अंग्रेजों की पेंशन ग्रहण करने के लिये विवश होना पड़ा।

पेशवाओं का काल-
  • बाळाजी विश्वनाथ पेशवा (१७१४-१७२०)
  • पहिले बाजीराव पेशवा (१७२०-१७४०)
  • बाळाजी बाजीराव पेशवा ऊर्फ नानासाहेब पेशवा (१७४०-१७६१)
  • माधवराव बल्लाळ पेशवा ऊर्फ थोरले माधवराव पेशवा (१७६१-१७७२)
  • नारायणराव पेशवा (१७७२-१७७४)
  • रघुनाथराव पेशवा (अल्पकाल)
  • सवाई माधवराव पेशवा (१७७४-१७९५)
  • दूसरे बाजीराव पेशवा (१७९६-१८१८)
  • दूसरे नानासाहेब पेशवा (सिंहासन पर नहीं बैठ पाए)

बालाजी विश्वनाथ[संपादित करें]

मुख्य लेख : बालाजी विश्वनाथ

पेशवाओं के क्रम में सातवें पेशवा किंतु पेशवाई सत्ता तथा पेशवावंश के वास्तविक संस्थापक, चितपावन ब्राह्मण, बालाजी विश्वनाथ का जन्म १६६० ई. के आसपास श्रीवर्धन नामक गाँव में हुआ था। उसके पूर्वज श्रीवर्धन गाँव के मौरूसी देशमुख थे। सीदियों के आतंक से बालाजी विश्वनाथ को किशोरावस्था में ही जन्मस्थान छोड़ना पड़ा, किंतु अपनी प्रतिभा से उसने उत्तरोत्तर उन्नति की तथा साथ में अमित अनुभव भी संचय किया। औरंगजेब के बंदीगह से मुक्ति पा राज्यारोहण के ध्येय से जब महाराजा शाहू ने महाराष्ट्र में पदार्पण किया, तब बालाजी विश्वनाथ ने उसका पक्ष ग्रहण कर उसकी प्रबल प्रतिद्वंद्विनी ताराबाई तथा प्रमुख शत्रु चंद्रसेन जाघव, ऊदाजी च्हवान और दामाजी योरट को परास्त कर न केवल शाहू को सिंहासन किया, वरन् उसकी स्थिति सुदृढ़ कर महाराष्ट्र को पारस्परिक संघर्ष से ध्वस्त होने से बचा लिया। फलत: कृतज्ञ शाहू ने १७१३ में बालाजी विश्वनाथ को पेशवा नियुक्त किया। तदनंतर, पेशवा ने सशक्त पोतनायक कान्होजी आंग्रे से समझौता कर (१७१४) शाहू की मर्यादा तथा राज्य की अभिवृद्धि की। उसका सर्वाधिक महत्वपूर्ण कार्य मुगलों से संधिस्थापन था, जिसके परिणामस्वरूप मराठों को दक्खिन में चौथ तथा सरदेशमुखी के अधिकार प्राप्त हुए (१७१९)। इसी सिलसिले में पेशवा की दिल्ली यात्रा के अवसर पर मुगल वैभव के खोखलेपन की अनुभूति हो जाने पर महाराष्ट्रीय साम्राज्यवादी नीति का भी बीजारोपण हुआ। बालाजी विश्वनाथ की असंदिग्ध महानता के बावजूद, महाराष्ट्र संघ के शैथिल्य और त्रुटिपूर्ण आर्थिक व्यवस्था का उसपर दोषारोपण किया जाता है। अद्भुत कूटनीतिज्ञता उसकी विशेषता मानी जाती है।

बाजीराव प्रथम[संपादित करें]

जन्म १७०० ई. : मृत्यु१७४०। जब महाराज शाहू ने १७२० में बालाजी विश्वनाथ के मृत्यूपरांत उसके १९ वर्षीय ज्येष्ठपुत्र बाजीराव को पेशवा नियुक्त किया तो पेशवा पद वंशपरंपरागत बन गया। अल्पव्यस्क होते हुए भी बाजीराव ने असाधारण योग्यता प्रदर्शित की। उसका व्यक्तित्व अत्यंत प्रभावशाली था; तथा उसमें जन्मजात नेतृत्वशक्ति थी। अपने अद्भुत रणकौशल, अदम्य साहस और अपूर्व संलग्नता से, तथा प्रतिभासंपन्न अनुज चिमाजी अप्पा के सहयोग द्वारा शीघ्र ही उसने मराठा साम्राज्य को भारत में सर्वशक्तिमान् बना दिया। शकरलेडला (Shakarkhedla) में उसने मुबारिज़खाँ को परास्त किया। (१७२४)। मालवा तथा कर्नाटक पर प्रभुत्व स्थापित किया (१७२४-२६)। पालखेड़ में महाराष्ट्र के परम शत्रु निजामउलमुल्क को पराजित कर (१७२८) उससे चौथ तथा सरदेशमुखी वसूली। फिर मालवा और बुंदेलखंड पर आक्रमण कर मुगल सेनानायक गिरधरबहादुर तथा दयाबहादुर पर विजय प्राप्त की (१७२८)। तदनंतर मुहम्मद खाँ बंगश (Bangash) को परास्त किया (१७२९)। दभोई में त्रिंबकराव को नतमस्तक कर (१७३१) उसने आंतरिक विरोध का दमन किया। सीदी, आंग्रिया तथा पुर्तगालियों को भी विजित किया। दिल्ली का अभियान (१७३७) उसकी सैन्यशक्ति का चरमोत्कर्ष था। उसी वर्ष भोपाल में उसने फिरसे निजाम को पराजय दी। अंतत: १७३९ में उसने नासिरजंग पर विजय प्राप्त की। अपने यशोसूर्य के मध्य्ह्राकाल में ही २८ अप्रैल १७४० को अचानक रोग के कारण उसकी असामयिक मृत्यु हुई। मस्तानी नामक मुसलमान स्त्री से उसके पत्नीसंबंध के प्रति विरोधप्रदर्शन के कारण उसके अंतिम दिन क्लेशमय बीते। उसके निरंतर अभियानों के परिणामस्वरूप निस्संदेह, मराठा शासन को अत्याधिक भार वहन करना पड़ा, मराठा साम्राज्य सीमतीत विस्तृत होने के कारण असंगठित रह गया, मराठा संघ में व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाएँ प्रस्फुटित हुई, तथा मराठा सेनाएँ विजित प्रदेशों में असंतुष्टिकारक प्रमाणित हुई; तथापि बाजीराव की लौह लेखनी ने निश्चय ही महाराष्ट्रीय इतिहास का गौरवपूर्ण परिच्छेद रचा।Bajirav mastani

बालाजी बाजीराव उर्फ नाना साहेब[संपादित करें]

जन्म १७२१ ई. मृत्यु १७६१। बाजीराव का ज्येष्ठ पुत्र नाना साहेब १७४० में पेशवा नियुक्त हुआ। वह अपने पिता से भिन्न प्रकृति का था। वह दक्ष शासक तथा कुशल कूटनीतिज्ञ तो था; किंतु सुसंस्कृत, मृदुभाषी तथा लोकप्रिय होते हुए भी वह दृढ़निश्चयी न था। उसके आलसी और वैभवप्रिय पड़ा। पारस्परिक विग्रह, विशेषत: सिंधिया तथा होल्कर के संघर्ष को नियंत्रित करने में, वह असफल रहा। दिल्ली राजनीति पर आवश्यकता से अधिक ध्यान केंद्रित करने के कारण उसने अहमदशाह दुर्रानी से अनावश्यक शत्रुता मोल ली। उसने आंग्ल शक्ति के गत्यवरोध का कोई प्रयत्न नहीं किया और इन दोनों ही कारणों से महाराष्ट्र साम्राज्य पर विषम आघात पहुँचा।

नाना साहेब के पदासीन होने के समय शाहू के रोगग्रस्त होने के कारण आंतरिक विग्रह को प्रोत्साहन मिला। इन कुचक्रों से प्रभावित हो शाहू ने नाना साहेब को पदच्युत कर दिया। (१७४७), यद्यपि तुरंत ही उसकी पुनर्नियुक्ति कर शाहू ने स्वभावजन्य बुद्धिमत्ता का भी परिचय दिया। १५ दिसम्बर १७४९ में शाहू की मृत्यु के कारण मराठा शासनविधान के राज्यधिकरों में नई मान्यता स्थापित हुई। रामराजा की अयोग्यता के कारण राजकीय सत्ता पेशवा के हाथों में केंद्रित हो गई। सतारा की सत्ता समाप्त होकर पूना शासनकेंद्र बन गया।

नाना साहेब की सैनिक विजयों का अधिकांश श्रेय पेशवा के चचेरे भाई सदाशिवराव भाऊ की है। इस काल मुगलों से मालवा प्राप्त हुआ (१७४१); मराठों ने बंगाल पर निरंतर आक्रमण किए (१७४२-५१), भाऊ ने पश्चिमी कर्नाटक पर प्रभुत्व स्थापित किया (१७४९) तथा यामाजी रविदेव को पराजित कर संगोला में क्रांतिकारी वैधानिक व्यवस्था स्थापित की (१७५०) जिससे सतारा की अपेक्षा पेशवा का निवासस्थल पूना शासकीय केंद्र बना। भाऊ न ऊदगिर में निजामअली को पूर्ण पराजय दी (१७६०)। किंतु अहमदशाह दुर्रानी के भारत आक्रमण पर भयंकर अनिष्ट की पूर्व सूचना के रूप में दत्ताजी सिघिंया की हार हुई (१७६०)। तदनंतर, पानीपत के रणक्षेत्र पर मराठों की भीषण पराजय हुई (१७६१)। इस मर्मातक आघात को सहन न कर सकने के कारण पेशवा की मृत्यु हो गई।

माधवराव प्रथम[संपादित करें]

मृत्यु १७७२। बालाजी बाजीराव के ज्येष्ठ पुत्र माधवराव ने सोलह वर्ष की अल्पावस्था में पेशवापद ग्रहण किया; तथा सत्ताईस वर्ष की आयु में वह दिवंगत हुआ। पानीपत की पराजय के मर्मांतक आघात से पीड़ित महाराष्ट्र में माधवराव के ग्यारह वर्षीय शासन में दो वर्ष गृहयुद्ध में बीते, तथा अंतिम वर्ष यक्ष्मा के घातक रोग में व्यतीत हुआ। स्वतंत्र रूप से सक्रिय होने के केवल आठ वर्ष उसे मिले। इतने समय में उसने साम्राज्य का विस्तार किया, तथा शासनव्यवस्था सुसंगठित की। इसी कारण वह पेश्वाओं में सर्वोत्कृष्ट गिना जाता है।

चरित्र में माधवराव धार्मिक, शुद्धाचरण सहिष्णु, निष्कपट, कर्तव्यनिष्ठ, तथा जनकल्याण की भावना से अनुप्राणित था। उसका व्यक्तिगत जीवन निर्दोष था। उसकी प्रतिभा जन्मजात थी। वह सफल राजनीतिज्ञ, दक्ष सेनानी तथा कुशल व्यवस्थापक था। उसमें बाला जी विश्वनाथ की दूरदर्शिता, बाजीराव की नेतृत्वशक्ति तथा संलग्नता एवं अपने पिता को शासकीय क्षमता थी। चारित्रिक उच्चादर्श में वह तीनों से श्रेष्ठ था।

माधवराव के पदासीन होने पर उसकी अल्पावस्था से लाभ उठाने के ध्येय से निजाम ने महाराष्ट्र पर आक्रमण किया। माधव के महत्वाकांक्षी किंतु स्वार्थी चाचा रघुनाथराव ने अपने भतीजे को अपने अधीन रखने के ध्येय से मराठों के परमशत्रु निजाम से गठबंधन कर, माधवराव को आलेगाँव में परान्त कर (१२ नवम्बर १७६२) उसे बंदी बना लिया किंतु वह माधवराव का गत्यवरोध करने में असफल रहा। पेशवा ने रक्षाभवन में निजाम को पूर्णतया पराजित किया (१७६३)। युद्धक्षेत्र से लौटकर उसने अपने अभिभावक रघुनाथराव के प्रभुत्व से अपने से मुक्त किया। रघुनाथराव तथा जानोजी भोंसले के विरोध का दमन कर उसने आंतरिक शांति की स्थापना की। हैदरअली, जिसके शौर्य और रणचातुर्य से अंगरेज सेनानायक भी घातंकित हुए थे, चार अभियानों में माधवराज द्वारा परास्त हुआ। मालवा तथा बुंदेलकंड पर मराठों का प्रभुत्व स्थापित हुआ। राजपूत राजा विजित हुए। जाट तथा रुहेलों का दमन हुआ। मराठा सेना ने दिल्ली तक अभियान कर मुगल सम्राट् शाहआलम को पुन: सिंहासनासीन किया। इस प्रकार जैसे पानीपत के युद्ध के पूर्व वैसे ही इस बार भी, मराठा साम्राज्य भारत में सर्वशक्तिशाली प्रमाणित हुआ। किंतु माधवराव की असामयिक मृत्यु सचमुच ही महाराष्ट्र के लिये पानीपत की पराजय से कम घातक नहीं साबित हुई। माधवराज के पश्चात् महाराष्ट्र साम्राजय पतनोन्मुख होता गया।

पेशवा नारायणराव[संपादित करें]

जन्म, १७५५ ई. : मृत्यु १७७३। माधव राव के निस्संतान होने के कारण, उसकी मृत्यु पर, उसका अनुज नारायणराव पेशवा घोषित हुआ (१३ दिसम्बर १७७२)। वह प्रकृति से अस्थिर, उद्धत तथा विलासी था। एक तो उसका महत्वाकांक्षी चाचा रघुनाथराव बंदी होने के कारण अपनी परिस्थिति से असंतुष्ट था, दूसरे, उसकी वक्र बुद्धि पत्नी आनंदीबाई तथा पेशवा की माता गोपिकाबाई में घोर वैमनस्य था। अत: अपनी पत्नी से प्रोत्साहित हो रघुनाथराव ने पेशवा के विरुद्ध षड्यंत्र आयोजित किया। संभवत: आरंभ में उसका ध्येय केवल पेशवा को बंदी बनाने का था। किंतु ३० अगस्त १७७३ के मध्याह्न में पेशवामहल में नारायणराव के घेरे जाने पर, संभवत: आनंदीबाई के ही इशारे पर, रघुनाथराव के अनुयायियों ने उसकी हत्या कर दी।

रघुनाथ उर्फ राघोबा[संपादित करें]

जन्म १७३४ : मृत्यु १७८४। पेशवा बालाजी बाजीराव का अनुज रघुनाथराव महत्वाकांक्षी तथा साहसी तो था; किंतु साथ ही स्वार्थी, लालची और दंभी भी था। बालाजीराव के समय में राघोबा के नेतृत्व में उत्तरी भारत के दो सैनिक अभियानों की असफलता, पानीपत के युद्ध की पृष्ठभूमि के रूप में, महाराष्ट्र के लिये बड़ी अनिष्टकारक प्रमाणित हुई। अल्पव्यस्क किंतु प्रतिभासंपन्न माधवराव के पदासीन होने पर उसे अपने प्रभुत्व में रखने के ध्येय से राघोबा ने मराठों के परम शत्रु निजाम से समझौता कर, आलेगाँव मे माधवराव को पराजित कर (१७६२), उसे बंदी बना लिया। किंतु माधवराव ने शीघ्र ही अपनी पूर्ण सत्ता स्थापित कर ली (१७६३)। राघोबा को बड़े अनुशासन में रहना पड़ा। माधवराज के मृत्युपरांत नारायणराव के पेशवा बनने पर राघोवा ने उसके विरुद्ध षड्यंत्र आयोजित किया, जिससे उसकी हत्या हो गई (१७७३)। अब राघोबा का पेशवा घोषित होने का स्वप्न सार्थक हुआ (१० अक्टूबर १७७३)। किंतु तत्काल ही नारायणराव की विधवा के पुत्र होने पर नानाफड़नवीस के नेतृत्व में राघोवा के विरुद्ध सफल विरोध उठ खड़ा हुआ। राघोबा ने अँग्रेजों की सहायता से पदासीन होने के उद्देश्य से उनसे सूरत की संघि की (१७७५) जिससे आँग्ल-मराठा-युद्ध का सूत्रपात हुआ, किंतु वह अँग्रेजों कठपुतली मात्र बना रहा। अंतत: युद्ध की समाप्ति पर सालबाई की संधि (१७८२) के अनुसार पेशवा दरबार द्वारा राघोबा को पच्चीस हजार रूपए मासिक पेंशन प्रदान की गई। भग्नहृदय राघोवा की ४८ वर्ष की आयु में मृत्यु हो गई।

माधवराव द्वितीय[संपादित करें]

जन्म १७७४ : मृत्यु १७९५। नारायणराव की हत्या के बाद राघोबा अपने को पेशवा घोषित करने में सफल हुआ। किंतु तत्काल ही नारायणराव की विधवा के पुत्र उत्पन्न हो जाने पर (१८ अप्रैल १७७४) जनमत के सहयोग से-------- ने राघोवा को पदच्युत कर एक महीने अट्ठारह दिन के बालक माधवराव द्वितीय को पदासीन किया (२८ मई)। समस्त राजकीय सत्ता अब पेशवा के अभिभावक नाना फडनवीस के हाथों में केंद्रित हो गई। शक्तिलोलुप नाना ने माधवराव का व्यक्तित्व विकसित न होने दिया। न तो उसकी शिक्षा दीक्षा ही संतोषजनक हो सकी और कुछ न वह कुछ अनुभव ही संचय कर सका। निजाम के विरुद्ध खरड़ा के युद्ध में (१७९५) वह केवल कुछ क्षणों के लिये ही उपस्थित था। आकस्मिक रूप से हो, अपने महल के छज्जे से गिरने के कारण उसकी मृत्यु हो गई।

चिमनाजी अप्पा[संपादित करें]

जन्म, १७८४ ई. : मृत्यु १८३०। माधवराव द्वितीय की आकस्मिक मृत्यु के बाद महाराष्ट्र में अव्यवस्था तीव्रतर हो उठी। प्राय: सात महीने तक उत्तराधिकारी का प्रश्न समस्या बना रहा। माधवराव के निस्संतान होने के कारण वास्तव में राज्याधिकार राघोबा के ज्येष्ठ पुत्र बाजीराव द्वितीय का था। किंतु नानाफड़नवीस उसके विपक्ष मे था। अत: नाना ने बाजीराव के अनुज चिमनाजी को उसकी अस्वीकृति पर भी पदासीन करने का निश्चय किया। उसकी नियुक्ति वैध ठहरने के लिये प्रथमत: उसे आधवराव की विधवा यशोदाबाई से गोद लिवाया गया (२५ मई १७९६)। तदनंतर २ जून को उसका पदारोहण हुआ। किंतु तत्काल ही आंतरिक विग्रह से प्रभावित हो नाना फड़नवीस ने बाजीराव के पक्ष में तथा चिमनाजी के विरुद्ध षड्यंत्र आयोजित किया। फलत: चिमनाजी बंदी हुआ, बाजीराव पेशवा नियुक्त हुआ। (६ दिसम्बर १७९६)। अंतिम आँग्ल-मराठा-युद्ध की समाप्ति पर जब बाजीराव ने अंग्रेजों के सम्मुख आत्मसमर्पण किया, चिमनाजी बनारस जाकर रहने लगा, जहाँ १८३० में उसकी मृत्यु हो गई।

बाजीराव द्वितीय[संपादित करें]

जन्म १७७५ ई. : मृत्यु १८५१। रघुनाथ राव तथा मराठा दरबार के अभिभावक नाना फड़णवीस में तीव्र मनोमालिन्य था। अत: माधवराव द्वितीय की मृत्यु पर नाना ने बाजीराव की अपेक्षा उसके अनुज चिमनाजी अप्पा को पेशवा घोषित किया (२ जून १७९६) किंतु आंतरिक दाँव पेचों से प्रभावित हो, नाना ने तुरंत ही चिमनाजी को पदच्युत कर बाजीराव को पेशवा घोषित किया। (६ दिसम्बर १७९६)। बाजीराव का अधिकांश जीवन बंदीगृह में व्यतीत होने के कारण उसकी शिक्षा दीक्षा नितांत अधुरी रही। उसकी प्रकृति भी कटु और विकृत हो गई। अयोग्य तथा अनुभवहीन होने के अतिरिक्त वह स्वभाव से दुर्मति तथा विश्ववासघाती था। अपने उपकारी नाना के विरुद्ध षड्यंत्र रचकर उसने उसके अतिम दिवस कष्टप्रद कर दिए। १८०० में नाना की मृत्यु से बाजीराव पर रहासहा नियंत्रण हट जाने पर बाजीराव के दुर्व्यवहार तथा महाराष्ट्र की विच्छृंखला में वृद्धि होने लगी। पेशवा द्वारा विठोजी होल्कर की हत्या (१८०१) ने यशवंतराव होल्कर को पेशवा कर आक्रमण करने के लिये उत्तेजित यशवंतराव होल्कर की हत्या (१८०१) ने यशवंतराव होल्कर को पेशवा पर आक्रमण करने के लिये उत्तेजित किया। पेशवा तथा सिंधिया की पराजय हुई। पेशवा की अँगरेजों से बेसीन की संधि (१८०२) के उपरांत बाजीराव पुन: पुणे पहुंचा। इसकी क्रम में द्वितीय आंग्ल-मराठा युद्ध छिड़ गया। परिणामस्वरूप बाजीराव को अँगरेजों का प्रभुत्व स्वीकार करना पड़ा, तथा महाराष्ट्र की स्वतंत्रता भी समाप्त हो गई। अंतिम आँग्ल-मराठा-युद्ध में अँगरेजों ने पुन: बाजीराव को संधि के लिये विवश किया (५ नवम्बर १८१७) जिससे उसे मराठा संघ पर अपना राज्यअधिकार त्यक्त करना पड़ा। अंतत: युद्ध की समाप्ति पर मराठा साम्राज्य ही अँग्रेजों के अधिकार में हो गया। बाजीराव अँगरेजों की पेंशन ग्रहण कर विटूर (उत्तर प्रदेश) जाकर निवास करने लगा।

नाना साहेब द्वितीय[संपादित करें]

१८५७ के स्वतंत्रता संग्राम में अँगरेजों के विरुद्ध लड़े।

सन्दर्भ ग्रन्थ[संपादित करें]

  • (१) ग्रांट डफ : हिस्ट्री ऑव द मराठाज;
  • (२) जी. एस. सरदेसाई : हिस्ट्री ऑव द मराठाज;
  • (३) डॉ॰ जटुनाथ सरकार फाल ऑव द मुगल एंपाएर;
  • (४) डॉ॰ वी. जी. दिघे : पेशवा बाजीराव ऐंड मराठा एक्स्पेंशन;
  • (५) अनिलचंद्र बैनर्जी : पेशवा माधवराव प्रथम;
  • (६) डॉ॰ आर. डी. चोक्से : द लास्ट फ्रेज ;
  • (७) एच. एन. सिन्हा : राइज ऑव द पेशवाज;
  • (८) केंब्रिज हिस्ट्री ऑव इंडिया, जिल्द ५;
  • (९) डॉ॰ सुरेद्रनाथ सेन : ऐडमिनिस्ट्रेटिव सिस्टम ऑव द मराठाज।
[छुपाएँ]
राज्यकर्ताFlag of the Maratha Empire.svgShivaji British Museum.jpg150px
पेशवा
अष्टप्रधानमंडळ
प्रमुख स्त्रियाँ
सेनापति
प्रमुख सरदार/सूबेदार
प्रमुख वीर/दुर्गपति
प्रमुख मोहिमा
युद्ध
आष्टीची लढाई · कोल्हापूरची लढाई · पानीपत का तृतीय युद्ध ·पावनखिंडीतील लढाई · प्रतापगडाची लढाई ·राक्षसभुवनची लढाई · वडगावची लढाई · वसई क युद्ध ·सिंहगडाची लढाई · खर्ड्याची लढाई · हडपसरची लढाई ·पालखेडची लढाई · प्रथम अंग्रेज-मराठा युद्ध ·द्वितीय अंग्रेज-मराठा युद्ध · तृतीय अंग्रेज-मराठा युद्ध ·मराठा-दुराणी युद्ध
प्रमुख संधियाँ
शत्रुपक्ष
शत्रु
प्रमुख दुर्ग
अन्य