Palash Biswas On Unique Identity No1.mpg

Unique Identity No2

Please send the LINK to your Addresslist and send me every update, event, development,documents and FEEDBACK . just mail to palashbiswaskl@gmail.com

Website templates

Zia clarifies his timing of declaration of independence

What Mujib Said

Jyoti basu is DEAD

Jyoti Basu: The pragmatist

Dr.B.R. Ambedkar

Memories of Another Day

Memories of Another Day
While my Parents Pulin Babu and basanti Devi were living

"The Day India Burned"--A Documentary On Partition Part-1/9

Partition

Partition of India - refugees displaced by the partition

Tuesday, December 8, 2015

Red Salute Comrade! Sorry for the unwanted mistake committed by friends!Let us not declare any thing until

Red Salute Comrade! Sorry for the unwanted mistake committed by friends!Let us not declare any thing until

 

confirmed!


Palash Biswas


Thanks Abhishek .I was shocked but decided to confirm the news first.We may not allow our Comrade to be out of our sight in Hadbadi and Gadbadi.You pointed it very well.I am sorry for Kamayani.She is doing an excellent job.Everyone from us are human.We commit mistake.She corrected it very soon but friends repeated the mistake.It is not the methodology.We must know the truth.Thanks Abhishek for the most urgent correctionAt the same time ,we should not think anything about our dearest friends Kamayani and Rathi>They have been doing good job.We have to forget it.But the correction is urgent and hence,I am posting this on my blogs with this disclaimer.Sorry kamayani! Sorry Rathi! Red Salute to the beloved comrade!


Abhishek Shrivastav wrote:

एक जगह से गलत खबर चली तो कैसे वह हर जगह अबाध फैलती जाती है और ठीकठाक लोग भी उसे बिना वेरिफाइ किए शेयर कर देते हैं, यह तस्‍वीर उसका उदाहरण है। अपनी वेबसाइट kractivist.org पर Kamayani Bali Mahabal ने कल रात यह खबर लगाई।Gopal Rathi ने उसे शेयर किया। पचासों लोगों ने कमेंट में RIP मार दिया। किसी ने भी पता करने की ज़हमत नहीं उठायी कि खबर सही है या नहीं। बाद में वेबसाइट पर भीतर तो खबर बदल गई लेकिन अब भी गूगल के लिंक पर मौत का ही शीर्षक चल रहा है।

कल रात Lal Babu Lalit की ऐसी ही पोस्‍ट पर मैंने आपत्ति की थी। बाद में विनीत तिवारी ने मैसेज से कनफर्म किया कि ''बुलंद हैं, खबर गलत है'' मैंने ललित को आगे बढ़ा दिया। अब तक उनकी दीवार पर निधन वाली पोस्‍ट कायम है। भ्रम का आलम ये है कि कलकत्‍ता से Palash Biswas भी फोन कर के कह रहे हैं कि 'अगर कामरेड बर्धन मर गए हों तो उन्‍हें ठीक से लाल सैल्‍यूट देना'।

मित्रों, इतनी जल्‍दबाजी में न रहा करें। जिंदगी लंबी है। आराम से भी काम लिया जा सकता है। सवेरे-सवेरे कवि Vimal Kumar भी इस बारे में एक गंभीर अपील कर चुके हैं। हड़बड़ी का एक्टिविज्‍म KRACTIVISM ना बन जाए, इसका ध्‍यान रखें।



--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!