Palash Biswas On Unique Identity No1.mpg

Unique Identity No2

Please send the LINK to your Addresslist and send me every update, event, development,documents and FEEDBACK . just mail to palashbiswaskl@gmail.com

Website templates

Zia clarifies his timing of declaration of independence

What Mujib Said

Jyoti basu is DEAD

Jyoti Basu: The pragmatist

Dr.B.R. Ambedkar

Memories of Another Day

Memories of Another Day
While my Parents Pulin Babu and basanti Devi were living

"The Day India Burned"--A Documentary On Partition Part-1/9

Partition

Partition of India - refugees displaced by the partition

Tuesday, February 16, 2016

Mind you,RSS created the JNU crisis to abort #justicefor rohit/Holkolorob! Please do not forget Rohit Vemula.Please post #justicefor rohit/Holkolorob! with every call for #justiceforKanhaia! Because RSS posts Kanhaiya to delete Rohit to win UP elections lest Dalit Tsunami would kill the BORGI Peshwa Ashwamedhi Sena! JNU is not attacked,Jai Bhim Comrade is attacked and RSS stole the image of Rohit Vemula! Please do not forget the ultimate Ambedkar Mission.Jai Bhim! We stand with JNU as JNU is the base for the freedom struggle against the Manusmriti regime. It is not an act of sedition but it is an act to try the war criminals of humanity who always have been indulged in Sedition. Palash Biswas


Mind you,RSS created the JNU crisis to abort #justicefor rohit/Holkolorob!


Please do not forget Rohit Vemula.Please post #justicefor rohit/Holkolorob!

with every call for #justiceforKanhaia!


Because RSS posts Kanhaiya to delete Rohit to win UP elections lest Dalit Tsunami would kill the BORGI Peshwa Ashwamedhi Sena!


JNU is not attacked,Jai Bhim Comrade is attacked and RSS stole the image of Rohit Vemula!


Please do not forget the ultimate Ambedkar Mission.Jai Bhim!


We stand with JNU as JNU is the base for the freedom struggle against the Manusmriti regime.


It is not an act of sedition but it is an act to try the war criminals of humanity who always have been indulged in Sedition.


Palash Biswas

Some Orignal Photos of Dr. B. R. Ambedkar and the special moments.... post no. 02


Some stooges had been always active to divert the Babasaheb Mission of Caste Annihilation.


They were more dangerous.

They are most dangerous.


They created the Madhesh movement to make Nepal Hindu Nation yet again and made Nepal the enemy of India thanks to failed diplomacy of Kalki Chakrvarti Maharaj who wants Hindu Nation Nepal to justify Hindutva agenda as India has to remain BHARAT TIRTH whatever may come.


Those bloody fools would not understand that freedom is the dearest commodity.


French revolution,the crusade (hundred years fight to free Europe),peasants` uprising all over Europe against divine monarchy and the Almighty church,America`s history of revolution,Russian and Chinese revolution,revolution all over in Latin America,the cry freedom in South Africa and India`s struggle for freedom continued centuries after century prove how humanity tends to sacrifice everything for freedom.


They may never understand as they want to create the universe as they believe themselves divine!Omnipotent!Omnipresent!


As ignorant and blind are they that they might not read anything that matters and that is why they have to kill education and knowledge.Thus,universities and institutions have to be captured to relaunch Manusmriti Raj yet again all on the name of Rama!


Those colonial agents who betrayed freedom would ever understand the value of freedom and sovereignty.


They would never understand that Nepalese people have tasted the forbidden fruit of sovereignty and would not go back into Hindu Nation Manusmriti Raj of divine monarchy.


They are not Indian slaves!As we always treat them!


The stooges continue the agency of diversity mission and they created some one Ati Dalit Massiha in Bihar but Bihar is not that BURBAK as Bihar defeated RSS yet again!


The stooges continue their work round the clock to make an identity war yet again to fail Baba Saheb DR.BR Ambedkar.


The children of monarchy take it granted that Indian people are the masses of fools as they happen to be.They take it granted that they might buy everything with blind nationalism of PPP model ethnic cleansing FDI.


They would never understand that Indian people have always stood for freedom even in that mythical Ramrajya in which Non Aryans had to be killed to ensure the Manusmriti discipline.


But someone named DR.BR Ambedkar burnt Manusmriti even before India won freedom despite continuous betrayal,despite partitioned demography,despite identities,despite communalism.


Manusmriti would never be the destiny of India as it never had been!Mandal Kamandal war might not sustain Manusmriti!


Because we the people were empowered with the values introduced by Guatam Buddha and practiced by the greatest Hindu on earth Mahatma Gandhi.


They Killed Gandhi and they lost the battle against the dead man.


The dead Gandhi is walking live countrywide.So they have to make the Killers God to kill Gandhi time and again!


They committed yet another mistake to kill Roit Vemula which made Dr Ambedkar walking live yet again!Manusmriti launched the Baba saheb Mission os anihilation of caste yet again.


Thus,they try to kill DR BR Ambedkar,too.


Thus,we saw red being merged into blue and JNU was crying Jai Bhim Comrade!


JNU is not attacked,Ji Bhim is attacked and RSS stole the image of Rohit Vemula!


Please do not forget the ultimate Ambedkar Mission.


We stand with JNU as JNU is the base for the freedom struggle against the Manusmriti regime.


It is not an act of sedition but it is an act to try the war criminals of humanity who always have been indulged in Sedition.


तानाशाह गधे को लंबी सी रस्सी कोई दे दें!


क्योंकि फासिज्म के राजकाज में समरसता जलवा यह कि घास को बढ़ने की आजादी है तो गधे को चरने की आजादी है!
अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का मतलब देशद्रोह कानून हैजिसके तहत जो भी हुकूमत के खिलाफ बोले तड़ीपार करने का अनिवार्य रघुकुल रीत सनातन नियति है
फिरभी गति का चौथा नियम भी है कि ऐसे में बेखौफ तानाशाह बन चुके गधे को लंबी सी रस्सी दो ताकि वह अपने लिए फंदा बना लें और खेत में हरियाली रहे!

अंधेर नगरी चौपट राजा टका सेर भाजी टका सेर खाजा!

फासिज्म के राजकाज में समरसता जलवा यह कि घास को बढ़ने की आजादी है तो गधे को चरने की आजादी है!

फिरभी गति का चौथा नियम भी है कि ऐसे में बेखौफ तानाशाह बन चुके गधे को लंबी सी रस्सी दो,  ताकि वह अपने लिए फंदा बना लें और खेत में हरियाली रहे!
ऐसा हिंदू हितों के मुताबिक कितना माफिक हैं यह पेशवा महाराज ही तय कर सकते हैं या उनके सिपाहसालार। बेशक यह गधे और खेत दोनों के हित में हैं। खेती और किसानों का सत्यानाश करने पर तुले आदमखोर भेड़िये इसे कितना समझेंगे, हम नहीं जानते।
वे तो जरूर समझेंगे जो खुद गधे न होंगे और गुरुजी के चेले की तरह अंधेर नगरी की मौज उड़ाने की फिक्र में न होंगे।
क्योंकि फंदा तो आखिर फंदा है जिसका गला माफिक है, उसके गले में पड़ना है।
यह हकीकत जेएनयू के छात्र समझ रहे होते तो यह भारी विपदा आन न पड़ी होती।
न्यूटन के गति नियम
न्यूटन के गति नियम तीन भौतिक नियम हैं जो चिरसम्मत यांत्रिकी के आधार हैं।  ये नियम किसी वस्तु पर लगने वाले बल और उससे उत्पन्न उस वस्तु की गति के बीच सम्बन्ध बताते हैं।  इन्हें तीन सदियों में अनेक प्रकार से व्यक्त किया गया है। न्यूटन के गति के तीनों नियम,  पारम्परिक रूप से,  संक्षेप में निम्नलिखित हैं –
प्रथम नियम: प्रत्येक पिंड तब तक अपनी विरामावस्था अथवा सरल रेखा में एकसमान गति की अवस्था में रहता है जब तक कोई बाह्य बल उसे अन्यथा व्यवहार करने के लिए विवश नहीं करता।  इसे जड़त्व का नियम भी कहा जाता है।
द्वितीय नियम: किसी भी पिंड की संवेग परिवर्तन की दर लगाये गये बल के समानुपाती होती है और उसकी (संवेग परिवर्तन की) दिशा वही होती है जो बल की होती है।
तृतीय नियम: प्रत्येक क्रिया की सदैव बराबर एवं विपरीत दिशा में प्रतिक्रिया होती है।
फासिज्म के राजकाज में न जाने किस पांचवें वेद में मौलिक फासिज्म की विचारधारा है, जो अभी इस पृथ्वी पर लागू हो नहीं सकी है। किसी हिटलर और मुसोलिनी ने कोशिश की जरुर थी, लेकिन वे लोग उतने विशुद्ध रक्त के नहीं थे, जो भारत देश के गुजरात के कल्कि वंशजों के रगों में दौड़ता है, इसलिए अब पीपपी गुजराती चक्रवर्ती राजाधिराज के 56 इंच सीने में मौलिक फासिज्म लागू करने की केसरिया सुनामी दहाड़ें मार रही है।
इस मौलिक फासिज्म में ज्ञान विज्ञान हिंदू हितों के मुताबिक नहीं है और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का मतलब देशद्रोह कानून हैजिसके तहत जो भी हुकूमत के खिलाफ बोले तड़ीपार करने का अनिवार्य रघुकुल रीत सनातन नियति है और मनुष्य और प्रकृति नियतिबद्ध निमित्तमात्र हैं तो देश विखंडन की आदिम अंधकार प्रोयोगशाला एकदम गुजरात की तरह।
न्यूटन के गति के नियम तो पढ़े लिखे लोगों के लिए हैं। अपढ़ बिरंची बाबा के लिए यह एकदम बेकार की चीज है सिरे से।
उनके लिए गति का चौथा नियम भी है।
यह विज्ञान में नहीं है। लेकिन इस देश के मूलनिवासी अछूत बहुजनों को खेती के कामकाज में हजारों सालों से अपने रगों में इसे घोल लेने की आदत है और इसके लिए न पतंजलि का पुत्रजीवक अनिवार्य है और न अंबानी अडानी का सहयोग, न एफडीआई और न मेकिंग इन, खर पतवार की सफाई हमारी लोक संस्कृति है जो वैदिकी हिंसा की विरासत वाले हत्यारों की समझ से बाहर है।
गति का चौथा नियमः
बेखौफ तानाशाह बन चुके गधे को लंबी सी रस्सी दो ताकि वह अपने लिए फंदा बना लें और खेत में हरियाली रहे
इस नियम को फिर अमल में लाने का परम अवसर है और ऐसा करने से पहले भारतेंदु की अमर कृति का मंचन अनिवार्य है।

--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!