Palash Biswas On Unique Identity No1.mpg

Unique Identity No2

Please send the LINK to your Addresslist and send me every update, event, development,documents and FEEDBACK . just mail to palashbiswaskl@gmail.com

Website templates

Zia clarifies his timing of declaration of independence

What Mujib Said

Jyoti basu is DEAD

Jyoti Basu: The pragmatist

Dr.B.R. Ambedkar

Memories of Another Day

Memories of Another Day
While my Parents Pulin Babu and basanti Devi were living

"The Day India Burned"--A Documentary On Partition Part-1/9

Partition

Partition of India - refugees displaced by the partition

Thursday, November 5, 2015

हाफपैण्‍ट के पैदा होने की कहानी Satya Narayan


हाफपैण्‍ट के पैदा होने की कहानी

आर.एस.एस की स्थापना 1925 में नागपुर में हुई थी जि‍सके संस्थापक केशव बलि‍राम हेडगेवार था जि‍नका जन्म 1 अप्रैल को हुआ था। लेकि‍न हाफपेन्‍ट की रामलीला शुरू होती है डा. मुंजे की इटली के फासीवादी मुसोलि‍नी से हुई मुलाकात के बाद से। भारत आने पर मुंजे ने हेडगेवार को बताया की कैसे मुसोलि‍नी युवाओं के दि‍मागों में जहर घोलकर उन्हें फासीवादी संगठन में शामि‍ल कर रहे है। साथ ही मुंजे ने इटली फासीवादी द्वारा इस्तेामाल ड्रेसकोड तथा डण्डे का भी एक सेम्पल हेडगोवार को दि‍या। ड्रेसकोड खाकी पेन्ट थी जो अगले दि‍न हेडगेवार को पहनकर शाखा में जाना था मगर वो खाकी पेन्ट हेडगेवार की लम्बाई से ज्यादा थी इसलि‍ए हेडगेवार ने अपने नौकर से कहा की वे पेन्ट को एक फुट छोटा कर दे मगर उनके नौकर ने कहा आप का संघ दलि‍तों और गरीब वर्गों के हि‍न्दुओं के लि‍ए कुछ नहीं करता है इसलि‍ए मैं आपकी पेन्ट छोटी नहीं करूंगा । इसके बाद हेडगेवार अपनी पत्नी के पास पेन्ट एक फुट छोटा कराने पहुंचे। लेकि‍न उनकी पत्नी जानती थी कि संघ की राजनीति‍ महि‍ला वि‍रोधी है इसलि‍ए उन्होंने भी पेन्ट एक फुट छोटा करने से मना कर दि‍या। इसके बाद हेडगेवार थक-हार कर सोने चले गए और सोचा की लम्बी‍ पेन्ट को मोड़कर पहन लेंगे। लेकि‍न रात को नौकर ने सोचा कि चलो मालि‍क के नमक का कर्ज उतारने के लि‍ए पेन्ट एक फुट छोटा कर देता हूं। इसके बाद सुबह 5 बजे पत्नी ने भी सोचा कि चलो पत्नी होने के नाते अपना फर्ज पूरा कर देती हूँ और पेन्ट को एक फुट छोटा कर दि‍या। जि‍सके बाद वो पेन्ट हाफपेन्ट बन गई और सुबह 6 बजे हेडगेवार जी शाखा में उसी खाकी हाफपेन्ट को पहनकर पहुंचे । जि‍सके बाद से खाकी हाफपेन्ट आर.एस.एस की गणवेश 'ड्रेसकोड' घोषि‍त हो गई।


ऐ मालिक तेरे बन्दे हम...Ae Malik Tere Bande Hum!Get ready for the Final Kill,Reforms Agro!
This intolerance kills religion, humanity, nature, peace, medium, genre, art, culture, music as well as free flow of capital, investment, agrarian communities, business and industries!
GOI has to do nothing with global trends as RSS is all set to capture the Globe! Be Aware!


Hey Ram!We have to stand with Sharukh Khan,the real Indian!
An Indian who is not afraid of speaking human! Truth! Tolerance!Diversity!
Lest we become Bangladesh, Pakistan and an Islamist regime all on the name of Ram! Maryada Puroshottama!We are Indian!
Thanks comrades!That you correct and restrict BEEF Festival which helps Religious polarization!

Ae maalik tere bande hum
https://www.youtube.com/watch?v=m2CJZiP4_Sc

Palash Biswas
Satya Narayan's photo.
--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!